Humbistari ki Dua In Hindi | Sohbat karne ki Dua

अस्सलामु अलैकुम मेरे दीनी भाई और बहनों, उम्मीद है आप सब अच्छे होंगे आज के हम इस आर्टिकल मे Humbistari ki Dua आपके लिए बहुत ही अहम दुआ आपकी खिदमत मे लेकर आए है।

ये दुआ पढ़ना कितना जरूरी है एक मुसलमान के लिए आइए पहले ये समझ लेते है, दोस्तों इस्लाम मे निकाह करना सुन्नत है, जब कोई इंसान निकाह करता है तो वह अपनी बीवी के साथ हमबिस्तरी करता जो शोहर और बीवी के फ़ितरी और जिस्मानी सुकून के लिए हमबिस्तरी को जरूरी है, शैतानी वशवासों से बचने के लिए इस दुआ को पढ़ा जाता है।

Humbistari Ki Dua

दोस्तों दुनिया मे इस्लाम एक वाहिद मजहब है जो इंसान को ज़िंदगी जीने की सही तरीका बताता है, और हमारे प्यारे नबी ने हमे अल्लाह के हुकूम पर चलकर इस्लाम और मुसलमान को सही तरीके से ज़िंदगी का तरीका बताया, ऐसे ही हमे Humbistari ki Dua को पढ़ना भी जरूरी है।

इस फोटो में हमबिस्तरी की दुआ सिखाया जा रहा है

Humbistari Ki Dua in Hindi

बिस्मिल्लाह अल्लाहुम्मा जन्निबनश-शैताना व जन्निबनश- शैताना मा रज़क़ तना

हमबिस्तरी की दुआ का तर्जुमा

मैं यह अल्लाह के नाम पर करता हूं, हे अल्लाह! इसलिये हमें शैतान से बचा, और जो सन्तान तू चाहता है वह हमें दे, शैतान को उससे दूर रखो.

Humbistari Ki Dua in English

Bismillah ALLAHumma Jannibnash-Shaytaana, Wa Jannibish-Shaytaana Maa Razaqtanaa

आज अपने क्या सीखा?

दोस्तों आज इस पोस्ट की मदद से हमने जाना की Humbistari ki Dua की होती और इसका तर्जुमा क्या होता है, साथ ही हम तर्जुमा से हम जान सकते है ये दुआ का पढ़ना कितना जरूरी है।

नाज़रीन हमबिस्तरी करने के बाद शोहर और बीवी दोनों पर गुसल वाजिब हो जाता है, इसलिए शोबत करने के बाद आप गुसल जरूर करे और और उसके बाद घर से निकालने से पहले दुआ पढे तब घर से किसी भी काम के लिए निकले।

इस पोस्ट को दोस्तों के साथ शेयर करे:
Bilal Ahmad

इस्लामकादुआ.कॉम एक इस्लामिक वेबसाइट है जो बिलाल अहमद द्वारा 2023 में शुरू की गई है, ताकि दुनिया भर के लोगो तक ऑथेंटिक इस्लामिक दुआएं, और जानकारी हदीस की रौशनी में पहुंचाई जा सके।

Leave a Comment