Aulad Hone ki Dua in Hindi, English & Arabic

अस्सलामु-अलैकुम दोस्तों उम्मीद है आप सब अच्छे से होंगे आज के इस पोस्ट की मदद से हम आपको बताएंगे की औलाद होने की दुआ क्या होती है।

दोस्तों दुनिया मे हमारे बहुत से भाई और बहन है जिनके कोई औलाद नहीं है लेकिन उनकी चाहत है की अल्लाह उन्हे भी औलाद से नवाजे, इसलिए आज इस पोस्ट की मदद से हम आपको बताएंगे की आप अल्लाह से नेक औलाद कैसे मांगते है।

This image has an empty alt attribute; its file name is Aulad-Hone-ki-Dua-1024x614.png

Aulad Hone ki Dua in Hindi

रब्बि हब्ली मिनस्सालिहीन


Aulad Hone ki Dua in English

Rabbi Habli Minas Saliheen


Aulad Hone ki Dua ka Tarjuma

Aye Mere Rab! mujhe Nek Aulad ata farma.


बच्चों की इच्छा रखना इस्लाम में एक बहुत अहम और फितरत की चीज है. हालांकि, यह भी याद रखना जरूरी है कि अल्लाह ही संतान देता है और वही रोक सकता है.

औलाद की पाने के लिए इस्लामी तरीका अल्लाह से दुआ मांगना और अच्छे अमल करना है. कुछ सूरह और दुआएं हैं जो औलाद के लिए मांगी जा सकती हैं, लेकिन यह ध्यान रखना चाहिए कि ये किसी तरह के जादू टोना नहीं है।

यहाँ पर कुछ तरीके बताए गए हैं:

  • पाबंदी से नमाज पढ़ना और अल्लाह से दुआ मांगना. कुरान मजीद में कई जगहों पर औलाद होने के लिए के लिए दुआ करने का ذکر मिलता है. हज़रत ज़कारिया (अलैहिस्सलाम) की कहानी एक उदाहरण है.
  • सूरह काउसर और इमरान की तिलावत करना और इन सूरहों में मौजूद दुआओं को पढ़ना.
  • अपने गुनाहों की माफी मांगना (तौबा करना)
  • चाहत रखने वालों को अपने खयालात को भी पाक रखना चाहिए.

कुछ अहम बातें:

  • किसी भी अमल या दुआ को करते समय सिर्फ अल्लाह पर ही भरोसा रखें.
  • किसी भी तरह के गैर-इस्लामी तरीके को अपनाने से पहले अल्लाह का खोफ दिल मे रखना चाहिए।
  • दुआ के साथ साथ इंसान को दवाई और इलाज भी कराना चाहिए जो को बहुत जरूरी है।

अल्लाह ताल से नेक औलाद के लिए दुआ करते समय कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए:

1. ईमान और भरोसा:

  • सबसे पहले, आपको अल्लाह पर पूरा भरोसा रखना चाहिए और यकीन करना चाहिए कि वही आपको औलाद अता कर सकता है या दे सकता है.
  • दुनिया मे होने वाले सभी तरह के शिर्क से दूर रहें.

2. नियमित नमाज और दुआ:

  • पांचों वक्त की नमाज को पंबन्दी से अदा करें.
  • नमाज के बाद और अन्य समय में अल्लाह से औलाद के लिए दुआ मांगें.

3. कुछ खास सूरह और दुआएं:

  • सूरह काउसर और इमरान की तिलावत करें.
  • इन सूरहों में मौजूद दुआओं को पढ़े.
  • आप “रब्बी हब्ली मिन अस्सलीहिन” (ऐ मेरे रब, मुझे नेक संतान عطा कर) जैसी दुआएं भी पढ़ सकते हैं.

4. अच्छे अमल:

  • आपको चाहिए के अपने सभी अमल को इस्लामिक तरीके से करना चाहिए.
  • गरीबों और जरूरतमंदों की मदद करें.
  • ज़कात और सदका दें.

5. अल्लाह ताला पर तवक्कुल:

  • याद रखें कि अल्लाह की मर्जी के बिना कुछ नहीं होता.
  • धैर्य रखें और अल्लाह पर भरोसा रखें.

यहाँ कुछ दुआएं हैं जो आप पढ़ सकते हैं:

  • “रब्बी हब्ली मिन अस्सलीहिन” (ऐ मेरे रब, मुझे नेक संतान عطा कर)
  • “रब्बी अत्तीनी मिन लदुनका ज़ुर्riyatan ṭayyibah, innaka samee’ud-du’aa” (ऐ मेरे रब, मुझे अपनी तरफ़ से नेक संतान दे, तू ही दुआ सुनने वाला है)
  • “रब्बी लै तذرनी faridan wa anta khairul-waarithin” (ऐ मेरे रब, मुझे अकेला न छोड़, और तू ही सबसे अच्छा वारिस है)

यह भी याद रखें:

  • आपको चाहिए की दुआ के साथ साथ दवाई ओर डाक्टर की सलाह भी लेनी चाहिए और उनकी सलाह के अनुसार इलाज भी कराना चाहिए.
  • आपको धैर्य रखना होगा और अल्लाह पर भरोसा रखना होगा.
  • अगर आपको संतान नहीं भी होती है तो निराश न हों.
  • अल्लाह की मर्जी में ही सब कुछ बेहतर होता है.
इस पोस्ट को दोस्तों के साथ शेयर करे:
Bilal Ahmad

इस्लामकादुआ.कॉम एक इस्लामिक वेबसाइट है जो बिलाल अहमद द्वारा 2023 में शुरू की गई है, ताकि दुनिया भर के लोगो तक ऑथेंटिक इस्लामिक दुआएं, और जानकारी हदीस की रौशनी में पहुंचाई जा सके।

Leave a Comment