Astaghfar ki Fazilat & Dua in Hindi, English and Arabic

अस्सलामु अलैकुम दोस्तों, आज बहुत अहम चीज़े यानि Astaghfar ki Fazilat के बारे में और अस्तगफार की दुआ के बारे में बताने जा रहा हूँ.

दोस्तों हर इंसान से कोई न कोई गुनाह जरूर हो जाता है और जो अल्लाह का नेक बंदा होता है वह अपने गुनाह पर शर्मिंदा होते हुए अल्लाह से माफी माँगता है इसी को अस्तगफार कहते है।

अस्तगफार क्या है?

इन्सान की फितरत में गलती और गुनाह कर सामिल है और जब किसी शख्स से गुनाह हो जाता है और वह अपने गुनाहों पर सर्मिंदगी महसूस करने लगता है। और सच्चे दिल से अल्लाह ता’अला की बारगाह में दुआ की तलब करता है तो उसी को अस्तगफार कहते है।


Astaghfar ki Dua In Hindi

अस्तग़ फिरुल्लाह रब्बी मिन कुल्ली ज़म्बिंव व आतुबो इलैह

अस्तगफार की दुआ का तर्जुमा

मैं बख्शिश चाहता हूं उस अल्लाह से, जिस के सिवा कोई माबूद नहीं, मगर वही हमेशा जिन्दा रहेगा और मै उसी की तरफ मुतवज्जेह हूं।

Astaghfar ki Dua In English

Astaghfirullah Rabbi Min Kulli Zambiyon Wa Atoobu Ilaiyh

दोस्तों आज हमने इस आर्टिकल की मदद से जाना की Astaghfar ki Dua क्या होती है और इस दुआ को पढ़ने की कितनी ज्यादा फ़ज़ीलत है दोस्तों रसूलुल्लाहﷺ ने एक हदीस में अस्तग़फ़र के फ़ायदों और फ़ज़िलात का बताते हुए कहा।

अगर कोई लगातार (अल्लाह से) माफ़ी मांगता है, तो अल्लाह उसके लिए हर परेशानी से निकलने का रास्ता और हर चिंता से राहत देगा, और उसे वहाँ से रिज्क प्रदान करेगा जहाँ से वह उम्मीद नहीं करेगा।”

अल्लाह पाक ने फरमाया गुनाहों से तौबा अस्तगफार पढ़ने की वजह से आदमी ऐसा हो जाता है जैस गुनाह किया ही नहीं है।

मगफिरत की दुआ हिंदी में अगर सीखना चाहते है और अपनी तौबा कबूल करवाना चाहते है, तो इस पर क्लिक करके जरुर याद करे।

इस पोस्ट को दोस्तों के साथ शेयर करे:
Bilal Ahmad

इस्लामकादुआ.कॉम एक इस्लामिक वेबसाइट है जो बिलाल अहमद द्वारा 2023 में शुरू की गई है, ताकि दुनिया भर के लोगो तक ऑथेंटिक इस्लामिक दुआएं, और जानकारी हदीस की रौशनी में पहुंचाई जा सके।

Leave a Comment